जज और न्यायपालिका के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर CBI ने तीन लोगो को गिरफ्तार कर लिया है

सीबीआई ने उन तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है,जिन्होंने जज और न्यायपालिका के खिलाफ सोशल मीडिया पर आक्रामक पोस्ट की थी! आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के आदेश पर, सीबीआई ने जज और न्यायपालिका के खिलाफ आपत्तिजनक भाषण, इन्टरव्यू  सोशल मीडिया पर कराने वाले इन तिन आरोपियों को पकड़कर मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। सीबीआई ने आंध्र प्रदेश, तेलंगाना में आरोपी और संदिग्धों के घर और ऑफिस सहित 10 जगहों पर रेड्स कीऔर कई दस्तावेजों को बरामद किया!

एक बयान में, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कथित रूप से ऑनलाइन मंच पर साक्षात्कार / सोशल मीडिया / पोस्ट / भाषणों के माध्यम से न्यायाधीशों को टारगेट करने में शामिल आरोपी के खिलाफ कई मामलों / फेर्स रिकॉर्ड किए हैं। क्योंकि ये लोग निर्णय लेने या जारी करने में कथित दुर्भावनापूर्ण आदेशों के लिए ज़िम्मेदार हैं। आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के आदेश पर प्राथमिकी दर्ज की गई है।

सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट और आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय पर आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में 7 एफआईआर दर्ज की। पिछले साल 11 नवंबर को, एजेंसी ने 16 आरोपी पर मामला दर्ज किया था और आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के आदेश पर सीआईडी ​​से 12 एफआईआर लेली थी । इस केस में, सीबीआई ने कई चार्जशीट फाइलें भी दायर की थीं।

इसके अलावा, सीबीआई ने देश के सबसे बड़े बैंक धोखाधड़ी मामले में एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड और इसके बाद अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक ऋषि कमलेश अग्रवाल के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। अधिकारियों ने शनिवार को कहा था कि यह मुकदमा राज्य बैंक के नेतृत्व में बैंकों के संघ से कथित रूप से 22,842 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी के संबंध में पंजीकृत था।

यह भी पढ़े-स्थायी संसद समिति ने कहा कि देश में 257 पुलिस थानों में कोई वाहन नहीं है और 638 थानों में कोई टेलीफोन नही है

 

Leave a Reply