उत्तराखंड और गोवा में कांग्रेस बना सकती है सरकार, वही पंजाब में झटका

उत्तराखंड और गोवा में

पंजाब और उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में असेंबली चुनाव के परिणाम 10 मार्च को सामने आयेंगे।वोटो की गणना करने से पहले, मतदाताओं से एबीपी समाचार का एग्जिट पोल जनता के सामने आ गया हैं। चुनाव के बिंदुओं के मुताबिक कांग्रेस ने किसी भी राज्य में बहुमत नहीं देखा। उन्होंने पंजाब में भी ताकत खो दी। साथ ही, उत्तराखंड और गोवा में सत्ता की प्रतीक्षा भी हो सकती है।

आंकड़ों के मुताबिक, गोवा में कांग्रेस 12-16 और मणिपुर में 12-16 थी, उत्तराखंड में 32-38, पंजाब में 22-28 ,उत्तरप्रदेश में 4 से 8 सीटें थीं। कांग्रेस की इस स्थिति पर वरिष्ठ पत्रकार और हिंदुस्तान संपादक शशि शेखर ने ये जवाब दिया था।

शशि शेखर ने कहा, “कांग्रेस को वर्तमान स्व कॉन्फ़िगरेशन की आवश्यकता है। यह सिर्फ इतना है कि नीतियों या अवशेषों की कोई ज़रूरत नहीं है, उन्हें अपने संगठन पर जोर देना चाहिए। वोटो के लिए कुछ और चीजों की भी आवश्यकता होती है, जो 1 9 8 9 से कांग्रेस उत्तरप्रदेश में सतत खो रही  है। कांग्रेस में बिहार और उत्तरप्रदेश के लिए चेहरा नहीं है। ‘

साथ ही, वरिष्ठ मनीषा प्रियम पत्रकार ने कहा कि कांग्रेस को कहीं परिवारवाद को सुनने के लिए बुरा लग रहा था। उन्हें गंभीरता से आलोचना पर विचार करना चाहिए। यदि  बीजेपी आपकी आलोचना करती हैं तो आपको इसे स्वीकारना  चाहिए। मनीषा प्रियम ने कहा कि छत्तीसगढ़ में परिवारवाद  के कारण कांग्रेस जीती नहीं थी। आप वहां दिशा बदलते हैं। भूपेश सिंह बघेल को सामने लाये। राजस्थान में आप परिवारवाद के कारण नहीं जीत पाएं। मध्य प्रदेश में परिवार कहाँ है? आपको राजनीति में बदलाव भी करना होगा।

Leave a Reply